‘फुटबॉल क्लब बार्सिलोना उन घिनौनी और आक्रामक हरकतों की खुली आलोचना करता है, जिन्हें कैम्प नोउ से जाते हुए हमारे मैनेजर ने महसूस किया. क्लब सुरक्षात्मक और अनुशासनात्मक कदम उठाएगा जिससे ऐसी दुर्भाग्यपूर्ण चीजें दोबारा ना घटें.’

बयान दूर देश से आया है. यूरोप स्थित बेहद खूबसूरत देश स्पेन के एक हिस्से में है बार्सिलोना नाम का शहर. और यहां की सबसे बड़ी फुटबॉल टीम, फुटबॉल क्लब बार्सिलोना ने यह बयान अपने मैनेजर को डिफेंड करने के लिए जारी किया. क्योंकि क्लब के फ़ैन्स ने अपनी ही टीम के मैनेजर रोनाल्ड कुमन के साथ बदतमीजी की थी.

दरअसल हुआ ये कि बीते दिनों हुए एल-क्लासिको में रियल मैड्रिड ने बार्सिलोना को उनके ही घर में हरा दिया. और इस हार के बाद फ़ैन्स ने स्टेडियम से जाते हुए कुमन की गाड़ी को घेर लिया. धक्का-मुक्की के साथ फै़न्स ने कुमन को प्रताड़ित करने के लिए तमाम और तरह की हरकतें भी की.

और क्लब ने इन फ़ैन्स की घटिया हरकत पर तुरंत एक्ट किया. खुलेआम उन्हें लताड़ा और अपने मैनेजर को बचाने के लिए जरूरी कदम उठाने की बात भी बोली. लेकिन सोचिए, अगर ये भारत में हुआ होता तो? क्या उस प्लेयर या कोच से जुड़ी संस्था ऐसा कदम उठाती? हमें तो नहीं लगता.

# Shami के लिए क्यों नहीं बोलता BCCI?

क्यों नहीं लगता? क्योंकि हम संडे, 24 अक्टूबर को पाकिस्तान के खिलाफ हुए मैच के बाद से ही मोहम्मद शमी के साथ होती बदतमीजी देख रहे हैं. लोगों ने शमी की धार्मिक पहचान को निशाना बनाते हुए जाने क्या-क्या कह डाला. लेकिन भारतीय क्रिकेट के बाप BCCI के मुंह से एक शब्द नहीं निकला. पूरी दुनिया के लोग शमी के समर्थन में आए. लेकिन BCCI ने ऐसा कुछ करना जरूरी नहीं समझा.

रविवार की घटना पर BCCI की ओर से पहला रिएक्शन आया मंगलवार की शाम में. शमी और विराट की एक फोटो ट्वीट करते हुए BCCI ने लिखा,

गर्व.
मजबूती.
ऊपर और आगे की ओर.

सीरियसली! सच में? मतलब आपका एक सीनियर प्लेयर दो दिन से गालियां खा रहा है और आप उन गालीबाज मूर्खों की खुलकर आलोचना भी नहीं कर पा रहे? और वो भी तब, जब ऐवरेज इंडियन की नज़रों में दुनिया के सबसे खराब देश, पाकिस्तान के लोग भी शमी के समर्थन में आ चुके हैं. गलत को गलत कहने में किस बात का डर है श्रीमंत? आपको शर्म भी आती है? आपके लिए 350 से ज्यादा विकेट निकाल चुका बंदा एक खराब प्रदर्शन के लिए पाकिस्तान भेजा जा रहा है.

और आप सीधे-स्पष्ट शब्दों में इसकी आलोचना भी नहीं कर पा रहे? ऐसी क्या मज़बूरी है कि आपने अपने प्लेयर को उसके सबसे कठिन पलों में एकदम अकेला छोड़ दिया है? दो कौड़ी के लोग मुंह उठाकर किसी को भी पाकिस्तान भेजने लगते हैं और जिम्मेदार लोग उनकी आलोचना की जगह मुंह सिलकर नोट गिनने बैठ जाते हैं.

BCCI के सारे बड़े लोग सोशल मीडिया पर लगातार एक्टिव रहते हैं. लेकिन इस बेहद जरूरी मुद्दे पर, जो हमें पूरी दुनिया में नीचा दिखा रहा है, ये दोनों ही शांत बैठे हैं. वैसे तो सूत्रों के हवाले से BCCI की ख़बरें लगातार छनकर बाहर आती रहती हैं लेकिन इस बेहद संवेदनशील मुद्दे पर ये लोग अनऑफिशली भी स्टैंड नहीं ले रहे.

और इनका ये हाल देख हमें यकीन होता जा रहा है कि BCCI के पास रीढ़ नहीं है. अगर होती तो ये इतना झुककर तो नहीं ही रह पाते. ऐसे में हम इन्हें एक मुफ्त की सलाह देना चाहेंगे- डियर BCCI, एक रीढ़ खरीद ही लो. बहुत महंगी नहीं होती. चाहो तो बाद में इसकी भी नीलामी करा देना.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here