बिहार में सरकार के गठन हुए 2 महीने से अधिक का समय हो गया है और इसी बीच नीतीश सरकार के मंत्री मंडल विस्तार का इंतजार बिहार के लोग बड़ी बेसब्री से  कर रहे हैं।  इस बीच भाजपा के कद्दावर नेताओं से नीतीश  कुमार की मुलाक़ात ने कैबिनेट विस्तार केेे चर्चा को जोर दिया हैं हालांकि नीतीश कुमार ने ख़ुद कहा है कि बिहार सरकार जल्द ही कैबिनेट का विस्तार करने जा रही है. लेकिन सीएम नीतीश ने इस बारे में किसी भी चर्चा को अभी नकारते हुए कहा कि फिलहाल भाजपा के तरफ से इसके लिए कोई प्रस्ताव नहीं आया है.

आपको बता दें कि गुरुवार को भाजपा के बिहार प्रभारी भूपेंद यादव, प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल, व सूबे के दोनो उपमुख्यमंत्री ने सीएम नीतीश कुमार से मुलाकात की थी, जिसके बाद सियासी गलियारे में यह खबर तेज हो गयी की सरकार कैबिनेट विस्तार के लिए तैयारी कर रही है. हालांकि सीएम ने इस बात को नकार दिया कि भाजपा नेताओं से मुलाकात में इस बिंदु पर कोई चर्चा हुई है.

मीडिया रिपोर्ट की मानें तो नीतीश कुमार ने कहा हैं कि भाजपा के तरफ से अभी तक कैबिनेट को लेकर कोई प्रस्ताव नहीं आया है. सीएम ने कहा कि अभी तक  वो किसी भी कार्यकाल में कैबिनेट तैयार करने में इतना वक्त नहीं लेते थे. वो शुरु में ही यह काम कर लेते थे. उन्होंने कहा कि जबतक भाजपा की राय नहीं आ जाती तबतक फिलहाल कैबिनेट विस्तार नहीं होगा.

प्रेस कॉन्फ्रंस के दौरान जब एक पत्रकार ने  सुशील मोदी के बिहार वापसी के सवाल पर सीएम से सवाल पूछा तो जवाब में सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि सुशील मोदी के साथ लंबे समय तक हमने काम किया है. लेकिन उन्हें वापस बिहार लाना है या नहीं ये भाजपा  का अपना फ़ैसला हैै और इसे तय भी बीजेपी ही करेगी. उन्होंने कहा कि मुझे अभी इस बात की कोई जानकारी नहीं दी गई है कि सुशील मोदी को फिर से बिहार में सरकार में शामिल किया जाएगा या नहीं.

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here