विधानसभा में जीत कर भी पार्टी का वर्चस्व कम हो जाने के बाद अब जेडीयू वापिस लोगों के मन में अपनी जगह बनाने के लिए बहुत प्रयास कर रही है। जहां एक तरफ मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बिहार में लॉ एंड ऑर्डर कायम करने के लिए कोशिशें करते नजर आ रहे हैं तो वहीं अब पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष आरसीपी सिंह ने पार्टी का मुखपत्र जारी कर दिया है।

JDU का मुखपत्र ‘जेडीयू संधान’

खबर में आगे बात करेंगे की मुखपत्र किन-किन भाषाओं में जारी किया जाएगा, पार्टी के नेताओं ने इसे लेकर क्या बातें कही है और मुखपत्र पार्टी की राजनीति की किस तरीके से मदद कर सकता है।

सबसे पहले आपको बता दें कि पार्टी के विचारों, उसकी सोच को जनता तक पहुंचाने के लिए मुखपत्र जेडीयू संधान जारी किया गया है और जेडीयू बिहार में मुखपत्र जारी करने वाली बिहार की पहली प्रमुख पार्टी बन गई है। फिलहाल ये मुखपत्र अंग्रेज़ी और हिंदी में जारी किया जाएगा मगर कुछ वक्त बाद इसे मैथिली, अंगिका, भोजपुरी और उर्दू में भी जारी किया जाएगा।

आपको बता दें की मुखपत्र जारी करते वक्त पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने जहां मुखपत्र जारी के कारणों के पीछे की चर्चा की वहीं उन्होंने ये भी कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में पार्टी महात्मा गांधी, जयप्रकाश नारायण, राम मनोहर लोहिया, बी आर अम्बेडकर और कर्पूरी ठाकुर के सपनों को पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने मुखपत्र जारी करते वक्त सबको बिहार की विरासत याद दिलाते हुए कहा कि बिहार की विरासत गौरवशाली रही है। दुनिया में सबसे पहले बिहार के वैशाली में ही लोकतंत्र आया था। वर्ष 1948 के दौर को देखें तो देश में विकास को लेकर बिहार तीसरे नंबर पर था, बिहार को फिर उसी ऊंचाई पर पहुंचाना है।

पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष उमेश कुशवाहा ने भी मुखपत्र को लेकर पार्टी के क्या विचार है उनकी चर्चा की। उमेश कुशवाहा ने कहा कि मुखपत्र के माध्यम से लोगों तक पार्टी के विचार पहुंच पाएंगे, लोगों को ये समझ में आएगा की जेडीयू किन मुद्दों की तरफ काम कर रही है और अपने काम को लेकर कितनी गंभीर है। पार्टी का मानना है कि मुखपत्र के जारी होने से पार्टी लोगों तक अपने विचार और बेहतर तरीके से पहुंचा पाएगी जिससे उन्हें वापिस लोगों का भरोसा जीतने में मदद मिलेगी। ये जानकारी भी सामने आयी है कि इस मुखपत्र को साप्ताहिक रूप से प्रकाशित किया जाएगा और इसे हर कार्यकर्ता तक नियमित रूप से पहुंचाया जाएगा। अगर सभी कार्यकर्ता पार्टी के विचार से ठीक तरीके से अवगत रहेंगे तो वो पार्टी की बात जनता तक ठीक से पहुंचा पाएंगे।

उमेश कुशवाहा

मुखपत्र के हिंदी संस्करण के संपादक डॉक्टर कुमार वरुण ने बताया की मुखपत्र पार्टी की विचारधारा को आमजनता तक पहुंचाने के लिए बनाया गया है, पार्टी ने दूर दृष्टि रखते हुए इसे जारी किया है। इसमें पार्टी और सरकार के बारे में आम लोगों की राय को प्रमुखता दी जाएगी। ये मुखपत्र पार्टी की आने वाली नीतियों के साथ क्या खोया क्या पाया का भी हिसाब रखेगा।

मुखपत्र के अंग्रेज़ी संस्करण के संपादक कुमार बिमलेंदू ने बताया कि आने वाले वक्त में जैसे-जैसे पार्टी का विस्तार होगा, मुखपत्र की ज़रूरत बढ़ती जाएगी। नागालैंड जैसे नॉर्थईस्ट शहरों में जब पार्टी का विस्तार होगा तब भी मुखपत्र बहुत महत्वपूर्ण होगा। इस मुखपत्र पर जनता क्या प्रतिक्रिया देती है, वो भी देखने वाली बात होगी। ये हमें आपको बताने की ज़रूरत नहीं की मुखपत्र में जनता तक पार्टी से जुड़ी क्या जानकारी दी जाएगी उसपर विपक्ष अपनी नज़रें बनाए रखगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here