बिहार बोर्ड की मैट्रिक वार्षिक परीक्षा 2021 कल यानी बुधवार से शुरू होगी। परीक्षा को लेकर सभी केंद्रों पर तैयारी पूरी कर ली गयी है। 24 फरवरी तक चलने वाली मैट्रिक परीक्षा में कुल 16 लाख 84 हजार 466 परीक्षार्थी शामिल होंगे। सबसे ज्यादा, गया, सारण, पूर्वी चंपारण और पटना जिले से परीक्षार्थी शामिल होगे। गया से 83 हजार 371, सारण से 81 हजार 155, पूर्वी चंपारण से 78 हजार 216 और पटना से 73 हजार 30 परीक्षार्थी शामिल होंगे। इस बार 2020 की तुलना में क़रीब  एक लाख से अधिक परीक्षार्थी शामिल होंगे।

कोरोना संक्रमण को लेकर इस बार परीक्षा केंद्रों की संख्या बढ़ायी गयी है। इस बार कुल 1525 परीक्षा केंद्र होंगे। पटना जिले की बात करें तो 84 परीक्षा केंद्रों पर परीक्षा ली जायेगी। कदाचार मुक्त परीक्षा के लिए बिहार बोर्ड द्वारा सभी केंद्रों पर धारा 144 लागू रहेगा। प्रदेश भर के हर जिला में चार मॉडल केंद्र बनाये गये है। पटना जिला की बात करें तो गर्दनीबाग बालिका हाई स्कूल, शास्त्रीनगर बालिका हाई स्कूल, बांकीपुर बालिका हाई स्कूल में मॉडल केंद्र बनाया गया है।

10 तरह के निर्देश दिए गए है प्रवेश पत्र पर 

कोरोना संक्रमण के बीच कैसे परीक्षा देनी है। केंद्र पर प्रवेश के दौरान क्या ख्याल रखना है। इन सभी बातों की जानकारी बोर्ड द्वारा प्रवेश पत्र पर डाली गयी है। परीक्षार्थी को प्रवेश पत्र को अच्छी तरह से पढ़ कर आने का निर्देश दिया गया है। मास्क लगाकर ही केंद्र पर प्रवेश मिलेगा।

वीक्षकों का आज जारी होगा लॉटरी

मैट्रिक परीक्षा के लिए सभी वीक्षकों की नियुक्ति रैंडमली की जाएगी। एक स्कूल के सभी शिक्षक दूसरे स्कूल में जाकर वीक्षक की ड्यूटी देंगे। इसके लिए शिक्षकों के नाम की लॉटरी निकाली जाएगी। इसके बाद सभी शिक्षकों को उनके केंद्र की जानकारी मिलेगी। नाम निकलने के बाद शिक्षक संबंधित केंद्र पर अपना योगदान देंगे। बिहार बोर्ड ने इसके लिए संबंधित जिला शिक्षा कार्यालय को निर्देश दिया है। जिला कार्यक्रम पदाधिकारी श्याम शरण ने बताया कि रेंडमली वीक्षकों का नाम लॉटरी के आधार पर सोमवार को निकाला जाएगा। सभी शिक्षकों का केंद्र पर योगदान मंगलवार यानी 16 फरवरी को किया जाएगा। डीईओ कार्यालय में इसके लिए सभी शिक्षकों को उनके स्कूल के साथ डेटा तैयार कर लिया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here