आज भारत बंद है। कृषि बिल के खिलाफ सभी लेफ्ट पार्टियों के साथ ही राजद और कांग्रेस के कार्यकर्ता भी सड़क पर उतरेंगे। ऐसे में इसका व्यापक असर देखने को मिल सकता है। बंद को सफल बनाने के लिए सबसे ज्यादा जोर सड़क और रेल मार्ग को अवरुद्ध करने को लेकर होगा। लेफ्ट पार्टियों के किसान संगठन और कांग्रेस के किसान संगठन ने पटना में बैठक कर बंद को प्रभावी बनाने की रणनीति तय की है।

आरजेडी (RJD) नेता और बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) ने किसान आंदोलन (Farmers Protest) को लेकर बड़ा बयान दिया है. तेजस्वी यादव ने कहा है कि राष्ट्रीय जनता दल किसानों के भारत बंद को पूर्ण समर्थन देगी. तेजस्वी यादव ने सोमवार को ट्वीट कर नए कृषि कानूनों को लेकर केंद्र सरकार पर जमकर निशाना साधा. यादव ने ट्वीट कर कहा. ‘किसान के बच्चे ही सीमा पर देश की रक्षा करते हैं और किसान के अन्न से ही देश का पेट भरता है. अगर किसान के बेटे जवान और किसान स्वयं झुक गए तो देश झुक जाएगा. हम हर संघर्ष में दृढ़ता के साथ अन्नदाताओं संग कंधे से कंधा मिलाकर खड़े हैं. धनदाताओं के पिछलग्गूओं बिना अन्न क्या धन खाओगे?

किसान आंदोलन को लेकर तेजस्वी ने दिया यह बड़ा बयान
बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने अपने कार्यकर्ताओं को निर्देश दिया है कि वह 8 दिसंबर को भारत बंद के दौरान शांतिपूर्ण तरीके से सड़कों पर उतरें और किसान विरोधी कानून का विरोध करें. आरजेडी सूत्रों का कहना है कि मंगलवार को राजद कार्यकर्ता शहर से लेकर गांव तक शांतिपूर्ण तरीके से मार्च करेंगे.

गौरतलब है कि रविवार को ही तेजस्वी यादव और 18 अन्य लोगों के खिलाफ बिहार पुलिस ने एफआईआर दर्ज की थी. तेजस्वी यादव पर आरोप है कि उन्होंने कोरोनाकाल में बिना इजाजत के पटना के गांधी मैदान में सैकड़ों कार्यकर्ताओं के साथ भीड़ इकट्ठा कर कृषि कानूनों के विरोध में प्रदर्शन किया. पटना पुलिस ने 500 अज्ञात लोगों पर भी केस दर्ज किया है. तेजस्वी यादव पर धारा 188, 145, 269 और 279 तथा महामारी एक्ट के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है.

किसान आंदोलन के बहाने नीतीश पर निशाना
तेजस्वी यादव ने अपने खिलाफ खिलाफ दर्ज हुई एफआईआर पर ट्वीट कर कहा, ‘डरपोक और बंधक मुख्यमंत्री की अगुवाई में चल रही बिहार की कायर और निक्कमी सरकार ने किसानों के पक्ष में आवाज उठाने के जुर्म में हम पर FIR दर्ज की है. दम है तो गिरफ्तार करो. अगर नहीं करोगे तो इंतजार बाद स्वयं गिरफ्तारी दूंगा. किसानों के लिए FIR क्या अगर फांसी भी देना है तो दे दीजिए.’

डरपोक और बंधक मुख्यमंत्री की अगुवाई में चल रही बिहार की कायर और निक्कमी सरकार ने किसानों के पक्ष में आवाज उठाने के जुर्म में हम पर FIR दर्ज की है। दम है तो गिरफ़्तार करो,अगर नहीं करोगे तो इंतज़ार बाद स्वयं गिरफ़्तारी दूँगा।किसानों के लिए FIR क्या अगर फाँसी भी देना है तो दे दिजीए।

देश भर के किसान संगठनों ने 8 दिसंबर को भारत बंद का ऐलान किया है. किसानों के इस भारत बंद को कई राजनीतिक दलों ने भी समर्थन दिया है. देश के कई बार काउंसिल, ट्रांसपोर्ट यूनियनों के साथ कई सब्जी मंडियों ने समर्थन दिया है.

source- Daily Bihar

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here