भारत बंद के दौरान भारतीय जनतांत्रिक जनता दल के पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं ने पटना और उसके आस पास के कई जगहों पर किसानों के समर्थन में जमकर नारेबाजी और विरोध प्रदर्शन किया। कार्यकर्त्ता तीनो किसान विरोधी बिलो की बिना शर्त वापसी की मांग कर रहे थे।

मौके पर मौजूद भारतीय जनतांत्रिक जनता दल के राष्ट्रीय प्रवक्ता अली खान ने मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि -“केंद्र सरकार, किसानों के खिलाफ तीनो काला कानून अविलंब वापस ले। इस बिल के अस्तित्व में आने से किसान अंबानी अडानी जैसे पूंजीपतियों के चुंगल में फंसकर और गरीब हो जायेगा। दिल्ली में देश का अन्नदाता १३ दिनों से इस ठंड में सड़क पर बैठा है केंद्र सरकार तानशाही रवैया अख्तियार किए है। आन्दोलन के समर्थन में खड़े भारतीय जनतांत्रिक जनता दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष अब्दुल सुभान ने कहा कि वर्तमान तानाशाह मोदी की सरकार देश से लोकतंत्र समाप्त करना चाहती है।”
राष्ट्रीय अध्यक्ष अब्दुल सुभान ने आगे कहा कि भारतीय जनतांत्रिक जनता दल किसानों के साथ खड़ी है। हमारे किसान भाइयों को खालिस्तानी, पाकिस्तानी, देशद्रोही बोला जाना शहीदे आजम भगत सिंह , लाला लाजपत राय जैसे वंशजों का अपमान है।जब एक वाहन निर्माता अपने उत्पाद का मूल्य तय कर सकते हैं तो किसान अपने उत्पाद का मूल्य क्यूं नहीं तय कर सकते, ये तानाशाही नहीं चलेगी।

आज के विरोध प्रदर्शन में राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मुख़्तार अली जी, राष्ट्रीय महासचिव समां सुभान, प्रदेश अध्यक्ष शेहर यार, राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष जितेंद्र कुमार आदि ने किसान बिल विरोधी किया है .

Report – R. Shankar

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here