बहुत दिनों बाद एक बार फिर भाजपा और जदयू के बीच गठबंधन टूटने को लेकर खबर आयी है। बीच में एक समय आया था जब लग रहा था कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार अब भाजपा से नाता तोड़ देंगे लेकिन तमाम उठापटक के बीच भारतीय जनता पार्टी और जनता दल यूनाइटेड के बीच गठबंधन की गांठ बनी रही लेकिन अब जदयू के पूर्व विधायक और नेता श्याम बहादुर सिंह के बयानों से फिर से चर्चा चल पड़ी है।

श्याम बहादुर सिंह

श्याम बहादुर सिंह कौन है तो इसका जवाब है कि इन्हें नीतीश कुमार के बेहद करीब माना जाता है। आपने इनके कई सारे वायरल वीडियो देखे होंगे जिसमें ये डांस करते हुए दिख जाते हैं। अब हम इन्हें नीतीश कुमार के इतने करीबी क्यों कह रहे हैं इसे बस इस तरह समझ लीजिए कि इनके डांस को लेकर तमाम तरह के सवाल उठते रहे लेकिन नीतीश कुमार जी हर बार अपनी पार्टी का टिकट इन्हें देते रहे है। इस बार भी नीतीश कुमार जी ने इन्हें जदयू का टिकट सौंपा था लेकिन इन्हें सफलता नहीं मिल पाई। हालांकि श्याम बहादुर और जीतने वाले प्रत्याशी के मतों के बीच कुछ ज्यादा का अंतर नहीं था।

श्याम बहादुर के लिए प्रचार करने खुद नीतीश कुमार से लेकर भारतीय जनता पार्टी के बड़े नेताओं सहित भोजपुरी सुपरस्टार और गोरखपुर के सांसद रवि किशन भी पहुंचे थे। श्याम बहादुर सिंह ने कहा है कि गठबंधन कब तक चलेगा इसका कोई भरोसा नहीं है। कभी भी गठबंधन टूट सकता है। पूर्व विधायक श्याम बहादुर सिंह ने यह बयान किस संदर्भ में दिया है उसपर आगे बात करेंगे लेकिन अब इनके बयान से एक बार फिर चर्चा शुरू हो चुकी है। इनका वीडियो लगातार सोशल मीडिया पर शेयर भी किया जा रहा है।

 

जदयू के पूर्व विधायक श्याम बहादुर सिंह ने भाजपा और जदयू के संबंध को लेकर बड़ा बयान दिया है। श्याम बहादुर सिंह के इस बयान के बाद एक बार फिर चर्चा चल रही है कि क्या भाजपा और जदयू के बीच सब कुछ ठीक-ठाक नहीं चल रहा है। दरअसल जदयू नेता ने भारतीय जनता पार्टी पर आरोप लगाते हुए कहा कि भाजपा ने विधानसभा चुनाव के दौरान जदयू को धोखा दिया है। उन्होंने यह सारी बातें कल एक सम्मेलन में कहा है।

श्याम बहादुर सिंह के गृह जिले सिवान में जदयू कार्यकर्ताओं का सम्मेलन बुलाया गया था। जदयू के इसी जिला कार्यकर्ता सम्मेलन में श्याम बहादुर ने कार्यकर्ताओं से बात करते हुए कहा कि ‘भाजपा ने विधानसभा चुनाव में जदयू को धोखा दिया है।’ जब श्याम बहादुर सिंह यह बयान दे रहे थे तब मंच पर जदयू के प्रदेश अध्यक्ष उमेश सिंह कुशवाहा भी मौजूद थे। उनके साथ-साथ पार्टी के कई अन्य वरिष्ठ नेता भी मंच पर मौजूद थे। किसी भी बड़े नेता ने श्याम बहादुर के बयान को कुछ भी नहीं बोला।

श्याम बहादुर सिंह ने खुद के हार का जिम्मा भी भाजपा के सर पर ही लाद दिया है। उन्होंने कार्यकर्ताओं से कहा कि भाजपा पर भरोसा नहीं किया जा सकता। भारतीय जनता पार्टी के कारण ही वे खुद और कई अन्य जदयू उम्मीदवार चुनाव हार गए। उन्होंने कार्यकर्ताओं से अपील करते हुए कहा कि ‘कार्यकर्ता मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के हाथों को मजबूत करे ताकि पार्टी राज्य में अपने पैरों पर खड़ी हो सके।’ श्याम बहादुर सिंह के पहले अगर आप याद करेंगे तो कुछ वक्त पहले खुद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी कहा था कि उन्हें पता ही नहीं चला कि विधानसभा चुनाव के दौरान कौन उनका साथ दे रहा है और कौन हारवा रहा है। नीतीश कुमार से लेकर पार्टी के कई अन्य बड़े नेता इसके पहले लगातार भाजपा पर निशाना साध चुके है।

पिछले दिनों आपको याद होगा कि जब भाजपा ने अरुणाचल प्रदेश में जदयू के विधायकों को अपनी पार्टी में शामिल कराया था तब भी दोनों तरफ से खूब बयानबाजी हुई थी। कल जब श्याम बहादुर सिंह ने यह बयान दिया था तब वे कार्यकर्ताओं से अपने चिर परिचित अंदाज में ही बात कर रहे थे। उन्होंने मंच से कहा कि ‘गठबंधन कखनी तक चली कब टूट जाई, ई भरोसा नइखे, संगठन आ पार्टी के मजबूत करी।’ अब इनके बयान पर भाजपा के नेताओं ने तो कह दिया है कि हमारी पार्टी ने किसी को धोखा नहीं दिया। हमारे कार्यकर्ता गठबंधन धर्म के तहत पूरे चुनाव में ईमानदारी से लगे रहे लेकिन अब आगे इस बयान के कारण विपक्ष भी नीतीश कुमार पर और अधिक हमलावर हो सकता है।

पहले से ही विपक्ष लगातार कह रहा है कि नीतीश कुमार भाजपा का गुस्सा और फ्रॉस्टेसन उसके विधायकों पर निकाल रहे हैं। अब आगे देखना होगा कि भारतीय जनता पार्टी के बड़े नेता इस मुद्दे पर क्या बोलते हैं। वही जदयू के बड़े नेता भी हो सकता है कि इसपर कोई बयान दे। आगे इससे जुड़ी जो भी जानकारी आएगी उसे हम आप तक ज़रूर लायेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here