बिहार में मंत्री मंडल विस्तार का रास्ता बिल्कुल साफ होता दिख रहा हैं । अरुणाचल के दर्द को दरकिनार कर जदयू के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष आरसीपी ने जदयू कार्यालय के एक बंद कमरे में बीजेपी के बिहार प्रभारी भूपेंद्र यादव और बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल के साथ बैठक की । इस बैठक में बिहार में होने वाले मंत्रिमंडल विस्तार और विधानपरिषद के 2 सीटों पर होने वाले चुनाव पर चर्चा हुई।

बिहार में मंत्री मंडल विस्तार में हो रहे देरी को देखते हुऐ अब बीजेपी सक्रिय हो गई है और चाहती है कि खरमास के बाद जल्द ही बिहार में मंत्री मंडल का विस्तार हो। इसी कड़ी में बिहार भाजपा प्रभारी भूपेंद्र यादव, प्रदेश अध्यक्ष डा. संजय जायसवाल, उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद और रेणु देवी ने गुरुवार शाम करीब एक घंटे तक मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से उनके आवास पर मुलाकात की।

बिहार में खरमास बाद (14जनवरी) मंत्रिमंडल के विस्तार के कयास लगाए जा रहे हैं। वहीं सुशील कुमार मोदी और विनोद नारायण झा की खाली हुई विधान परिषद की सीटों पर 28 जनवरी को उप चुनाव होगा। एनडीए सूत्रों से मिल रही जानकारी के अनुसार भाजपा गठबंधन धर्म को निभाते हुए कोटे की इन दोनों सीटों पर जदयू के अशोक चौधरी और वीआईपी नेता मुकेश सहनी को समायोजित (एडजस्ट) कर सकती हैं।

बैठक के बाद जदयू अध्यक्ष ने क्या कहा

भूपेंद्र यादव और संजय जायसवाल के साथ हुए बैठक के बाद जदयू  अध्‍यक्ष आरसीपी सिंह ने कहा कि भूपेंद्र यादव और संजय जायसवाल बधाई और शुभकामना देने आए थे। अलग से किसी बिंदु पर चर्चा नहीं हुई। आरसीपी सिंह ने कहा कि मंत्रिमंडल का विस्तार बड़ा मसला नहीं है, लगातार बातचीत हो रही है और समय पर विस्तार हो जाएगा। जदयू अध्यक्ष ने कहा कि अरुणाचल की घटना पर हम दुखी नहीं है। हम लोग हमेशा खुश रहने वाले लोग हैं। हम कभी दुखी नहीं होते। जीतन राम मांझी द्वारा हम के लिए एक और मंत्री पद की मांग पर आरसीपी सिंह ने कहा कि गठबंधन के सभी शीर्ष नेता आपस में बातकर फैसला करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here