बिहार का बजट आज दिन 1 बजे विधान मंडल में पेश किया जाएगा।उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद बतौर वित्तमंत्री अपना पहला बजट सदन के पटल पर रखेंगे। वित्तीय वर्ष 2021-22 के इस बजट का आकार करीब दो लाख 15 हजार करोड़ रुपये से अधिक रहने की संभावना है। जो कि पिछले वित्तीय वर्ष 2020-21 के दो लाख 11 हजार 761 करोड़ रुपये से अधिक है।बजट में जहां कोरोना महामारी के प्रभावों से उबरने के उपायों संग स्वास्थ्य सेवाओं पर फोकस रहेगा, वहीं गुणवत्तापूर्ण शिक्षा भी मुख्य बिंदु होगा।

बजट को लेकर रविवार को भी तैयारियों को अंतिम रूप दिए जाने का सिलसिला चलता रहा। बीते साल के बजट में गैर योजना मद में 105995 करोड़ और योजना मद में 107766 करोड़ था। इस बार गैर योजना मद की वृद्धि की संभावना है। वहीं बजट के केंद्र में स्वस्थ बिहार की परिकल्पना दिखेगी। पीएमसीएच को विश्व प्रसिद्ध अस्पताल बनाने के लिए भी बजट में राशि का प्रावधान किया जाएगा।

शिक्षा के सबसे बड़ा कंपोनेंट रहने की उम्मीद है, जिसमें गुणवत्तापूर्ण शिक्षा पर सरकार का फोकस है। इसके अलावा बजट में ग्रामीण विकास पर विशेष ध्यान दिए जाने की उम्मीद है। बिहार के गांव चमकेंगे। ग्रामीण संपर्कता के साथ ही जल-जीवन-हरियाली के तहत हर खेत तक पानी पहुंचाने के सरकार के संकल्प की झलक बजट में दिखेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here