देश में एक बार फिर से कोरोना संक्रमण के बढ़ने की रफ़्तार तेज हो गई है. कई राज्यों में कोरोना का संक्रमण अब तेजी से बढ़ने लगा है. कई राज्य सरकारों की ओर से कोरोना की रोकथाम को लेकर बड़े दिशानिर्देश दिए गए हैं. गुरूवार को बिहार सरकार की ओर से भी कोरोना की रोकथाम को लेकर नई गाइडलाइन जारी कर दी गई है. इस नई गाइडलाइन में सरकार की ओर से कुछ जिलों को चिन्हित भी किया गया है, जहां कोरोना संक्रमण के फैलने का खतरा पहले से ज्यादा बढ़ गया है. इन जिलों में ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं.

कोरोनो के बढ़ते मामलों को लेकर राज्य सरकार ने नये गाइडलाइंस जारी कर दिये हैं. सरकार ने पटना समेत राज्य के कई और जिलों में सरकारी और निजी दफ्तरों में सिर्फ 50 फीसदी यानि आधे कर्मचारियों को ही कार्यालय आने देने का फैसला लिया गया है. सरकार ने कई और पाबंदियां लगा दी है. कोरोना को लेकर बिहार सरकार के अपर मुख्य सचिव (गृह) आमिर सुबहानी और स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने प्रेस कांफ्रेंस कर नये दिशा निर्देशों की जानकारी दी. राज्य सरकार ने ये तय किया है कि जिन जिलों में कोरोना पॉजिटिव की दर 10 फीसदी से ज्यादा है वहां पाबंदियां लगायी जायेंगी. यानि जिन जिलों में कोरोना जांच के दौरान 10 प्रतिशत से ज्यादा लोग कोरोना पॉजिटिव पाये जा रहे हैं वहां सरकारी और निजी दफ्तरों में सिर्फ 50 फीसदी लोग आयेंगे.

बिहार सरकार के आंकड़ों के मुताबिक राजधानी पटना में कोरोना पॉजिटिव की दर 10 फीसदी से ज्यादा है. लिहाजा यहां ये पाबंदी लागू होंगी. इसके अलावा बेगूसराय, जमुई, वैशाली, पश्चिम चंपारण और सारण जिले में भी कोरोना पॉजिटिव केस बढ़े हैं. वहां ये पाबंदियां लागू होंगी. यानी कि इन जिलों में कोरोना का खतरा अब पहले से काफी ज्यादा बढ़ गया है. इसलिए यहां रहने वाले लोगों को ज्यादा सावधानी बरतने की जरूरत है.

सरकार ने तय किया है कि इन जिलों में निजी और व्यवसायिक वाहनों पर सिर्फ आधे पैसेंजर बैठेंगे. पटना में सार्वजनिक बस से लेकर ऑटो में ठूंस कर पैंसेजर ढ़ोये जा रहे थे. इन पर तत्काल प्रभाव से रोक लगा दी गयी है. राज्य सरकार ने कहा कि कोरोना को लेकर ये निर्देश फिलहाल एक सप्ताह के लिए जारी किये गये हैं. एक सप्ताह बाद इसकी समीक्षा की जायेगी. समीक्षा के बाद आगे के लिए आदेश जारी किया जायेगा. 

इसके अलावा गुरूवार को बिहार पुलिस की ओर से मास्क जाँच में वसूले गए जुर्माने का जिलावार आंकड़ा दिया गया है. इस आंकड़े में ऐसे कई जिले हैं, जहां सैकड़ों लोगों से फाइन वसूला गया है. गया जिले में सबसे ज्यादा 632 लोगों से फाइन वसूला गया और दरभंगा जिले में 543 लोग लापरवाह दिखें, जिन्होंने मास्क नहीं पहनने के कारण जुर्माना भरा. इसके अलावा नालंदा, नवादा, मोतिहारी, मधुबनी, समस्तीपुर, सुपौल, मधेपुरा, पूर्णिया, अररिया और लखीसराय में 200 से ज्यादा ऐसे लोग मिलें, जिन्होंने सरकार के नियमों की अनदेखी की. इन्होंने स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी एसओपी का ख्याल नहीं रहा. इस लिहाज से इन जिलों के लोगों को भी ज्यादा सावधान रहने की जरूरत है क्योंकि कोरोना से बचने के लिए मास्क अनिवार्य है. 

यहां पढ़िए बिहार सरकार की नई गाइडलाइन – 

First Bihar

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here